Douglas Crawford

Douglas Crawford

दिसम्बर 30, 2017

विंडोज, माइक्रोसॉफ्ट को बहुत अधिक परिमाण में व्यक्तिगत जानकारी भेजता है, और मैक ओएसएक्स / मैक ओएस थोड़ा बेहतर है। इन सबके अलावा, माइक्रोसॉफ्ट और ऐपल दोनों ने अतीत में अपने ग्राहकों की जासूसी करने के लिए एनएसए के साथ काफी करीब से मिलकर काम किया है। विश्वसनीय सूत्रों से यह भी पता चला है कि विंडोज और ओएसएक्स दोनों को गुप्त रूप से एनएसए का समर्थन प्राप्त है।

जो भी व्यक्ति अपनी गोपनीयता के बारे में गंभीरता से सोचा है उन्हें अपने डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में लिनक्स का उपयोग करना चाहिए। लिनक्स एक मुफ्त और ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है। इसका मतलब है कि टैम्परिंग का पता लगाने के लिए इसके कोड का निरीक्षण किया जा सकता है। एकदम सही नहीं होने के बावजूद, ओपन सोर्स इससे पूरी तरह आश्वस्त होने के लिए सबसे अच्छा ही नहीं बल्कि एकमात्र तरीका भी है कि आपका सॉफ्टवेयर आपकी जासूसी नहीं करेगा।

देखा जाता है कि लिनक्स, गोपनीयता को गंभीरता से लेने वाले व्यक्ति का पसंदीदा ओएस है, लेकिन यह जानकर भी थोड़ा आश्चर्य होता है कि ओएस, वीपीएन प्रदाताओं द्वारा उससे कहीं बेहतर ढंग से समर्थित होता है जितना बेहतर ढंग से इसके उपयोगकर्ता इस सम्बन्ध में अपना सुझाव दे सकते हैं।

अधिकांश प्रदाता, लिनक्स के लिए अपनी सेवा को मैनुअल तरीके से कॉन्फ़िगर करने के लिए सेटअप गाइड प्रदान करते हैं लेकिन इसमें कस्टम क्लाइंटों द्वारा प्रदान की जाने वाली महत्वपूर्ण सुविधाएं – सबसे अधिक उल्लेखनीय रूप से किल स्विच और डीएनएस लीक प्रोटेक्शन – गायब रहती हैं।

लिनक्स के लिए सबसे अच्छे वीपीएन – सारांश

9.8/10.0

PrivateVPN Homepage
फायदा:
  • Loved by consumers
  • Super fast for streaming
  • Zero logs
  • Fully featured for security and privacy
  • Fantastic customer care
नुकसान:
  • Not much

PrivateVPN is an amazing service from Sweden that users praise regularly. It is a superb service that has a setup guide for Linux users on its website. It is fast, efficient, easy to use, and extremely reliable. It also provides lightning fast speeds for streaming in HD. PrivateVPN is a pleasure to use and has all the important security features you might need. It also has servers in over 50 countries.

Encryption is military grade OpenVPN and this VPN keeps zero logs. Amazingly, this fantastic VPN is also super cheap. Why not try the 30-day money-back guarantee to see why this VPN is proving so popular?

अभी लिनक्स के लिए सबसे अच्छा वीपीएन प्राप्त करें!

जाएं PrivateVPN »तीन दिन का फ्री ट्रायल

9.6/10.0

AirVPN Homepage
फायदा:
  • डीएनएस लीक प्रोटेक्शन और किल स्विच के साथ लिनक्स क्लाइंट (सम्पूर्ण जीयूआई)
  • कोई लॉग नहीं (बिल्कुल नहीं)
  • टोर के माध्यम से वीपीएन
  • बिटकॉयन स्वीकार करता है
  • P2P: हाँ
नुकसान:
  • टेक्नोलॉजी लोगों का महत्त्व कम कर देती है
  • ग्राहक सहायता बेहतर हो सकती थी
  • दुनिया भर में सीमित संख्या में सर्वर उपलब्ध हैं

अपने अत्यधिक टेक्नोलॉजी आधारित फोकस, और ग्राहक सेवा कौशल के अभाव, के कारण एयर वीपीएन औसत वीपीएन उपयोगकर्ता के लिए बहुत ज्यादा आकर्षक नहीं है। यह बड़े शर्म की बात है, क्योंकि एयर वीपीएन सचमुच अपने ग्राहकों की गोपनीयता का ख्याल नहीं रखता है, और सिर्फ यही नहीं, यह साफ़ तौर पर गोपनीयता टेक्नोलॉजी के मामले में बाजार में सबसे आगे भी है। इसका ओपन सोर्स जीयूआई लिनक्स क्लाइंट (“एडी”), विंडोज और ओएसएक्स वर्शनों की तरह है।

इसका मतलब है कि उपयोगकर्ताओं को एक फायरवॉल-आधारित किल स्विच और डीएनएस लीक प्रोटेक्शन, पोर्ट सेलेक्शन, इत्यादि का लाभ मिलता है। और हमेशा की तरह, एयर वीपीएन बहुत मजबूत एनक्रिप्शन का उपयोग करता है, एसएसएच और एसएसएल टनलिंग का उपयोग करके वीपीएन ऑबफस्केशन की अनुमति देता है, टोर के माध्यम से वीपीएन के जरिए गुमनाम लिनक्स वीपीएन का समर्थन करता है, और पोर्ट फॉरवार्डिंग की अनुमति देता है।

अतिरिक्त सुविधाएं: रियल-टाइम यूजर और सर्वर स्टेटिस्टिक्स, एसएसएल और एसएसएच टनल्स के माध्यम से वीपीएन, 3 दिन का फ्री ट्रायल, एक साथ 3 कनेक्शन।

8.4/10.0

Mullvad Homepage
फायदा:
  • इंटरनेट किल स्विच, डीएनएस लीक प्रोटेक्शन और IPv6 राऊटिंग के साथ लिनक्स क्लाइंट (सम्पूर्ण जीयूआई)
  • कोई लॉग नहीं (बिल्कुल नहीं)
  • बिटकॉयन और नकदी स्वीकार करता है
  • एक साथ तीन कनेक्शन
  • तीन घंटे का फ्री ट्रायल
नुकसान:
  • औसत प्रदर्शन
  • सर्वरों की सीमित संख्या

एयर वीपीएन की तरह, यह छोटा स्वीडिश प्रदाता सचमुच अपने उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता का ख्याल रखता है। यह डाक द्वारा भेजे गए गुमनाम नकद भुगतान भी स्वीकार करता है! यह लिनक्स उपयोगकर्ताओं को अपने जीयूआई डेस्कटॉप क्लाइंट का एक सम्पूर्ण वर्शन भी प्रदान करता है। यह एक फ़ायरवॉल आधारित किल स्विच और डीएनएस लीक प्रोटेक्शन के साथ लिनक्स वीपीएन कनेक्शनों की रक्षा करता है, और पोर्ट फॉरवार्डिंग की अनुमति देता है। असल में, मलवाड क्लाइंट एकमात्र ऐसा वीपीएन सॉफ्टवेयर है जिसके बारे में मुझे पता है कि यह IPv6 डीएनएस अनुरोधों को ठीक से राऊट करता है (यहाँ तक कि एयर वीपीएन भी IPv6 को अक्षम कर देता है)।

कहने की शायद ही कोई जरूरत हो कि मलवाड बिल्कुल भी कोई लॉग नहीं रखता है, और अब यह मजबूत एनक्रिप्शन का उपयोग करता है। लेकिन इसकी सबसे बड़ी खराबी यही है कि मलवाड के सर्वर, यूरोप और अमेरिका (लेकिन यूके में कोई सर्वर नहीं है) के बस कुछ गिने चुने स्थानों पर ही उपलब्ध हैं।

अतिरिक्त सुविधाएं: पोर्ट फॉरवार्डिंग

8.0/10.0

ExpressVPN Homepage
फायदा:
  • Special Offer: 49% off today!
  • लिनक्स क्लाइंट (कमांड लाइन)
  • कोई उपयोग लॉग नहीं
  • 30 दिन में पैसे वापस करने की गारंटी
  • एक साथ तीन कनेक्शन
  • 78 देशों में सर्वर
नुकसान:
  • कनेक्शन लॉग
  • थोड़ा महंगा

एक्सप्रेस वीपीएन एक लोकप्रिय वीपीएन सेवा है क्योंकि यह बहुत अच्छी 24/7 ग्राहक सेवा प्रदान करता है, इस सॉफ्टवेयर का उपयोग आसानी से किया जा सकता है, और यह 30 दिन में बिना किसी छल-कपट के पैसे वापस करने की गारंटी देता है जो वास्तव में वही करता है जो करने का वादा करता है। इसके सर्वर 87 देशों में हैं जो कि काबिलेतारीफ है।

लिनक्स उपयोगकर्ताओं को अन्य ऑपरेटिंग सिस्टमों के उपयोगकर्ताओं की तरह अच्छी तरह सेवा नहीं मिलती है, लेकिन एक्सप्रेस वीपीएन कम से कम एक बुनियादी कस्टम लिनक्स वीपीएन क्लाइंट प्रदान करता है। यह सिर्फ टर्मिनल कमांड-लाइन है लेकिन यह अच्छी तरह काम करता है और इसका उपयोग करना काफी आसान है। उबुन्तु 64-बिट वर्शन मेरे मिंट के लिए बस ठीक-ठाक काम करता है।

अपडेट: एक्सप्रेस वीपीएन लिनक्स क्लाइंट में अब डीएनएस लीक प्रोटेक्शन की सुविधा भी शामिल हो गई है।

अतिरिक्त सुविधाएँ: हांगकांग में “स्टील्थ” सर्वर, मुफ्त स्मार्ट डीएनएस, डीएनएस लीक प्रोटेक्शन।

7.8/10.0

CyberGhost Homepage
फायदा:
  • Special Offer: 77% off 2-year plans!
  • कोई उपयोग लॉग नहीं रखता है
  • बहुत तेज़
  • पांच युगपत कनेक्शन
  • 30-दिन के पैसे वापस वापसी
नुकसान:
  • कुछ कनेक्शन लॉग रखता है

CyberGhost हमारी लिनक्स के लिए सबसे अच्छा वीपीएन की सूची को गोल करता है। CyberGhost एक लोकप्रिय रोमानियाई प्रदाता है जो स्टाइलिश प्रदाता और सहज ज्ञान युक्त उपयोग के लिए जाना जाता है। सिर्फ इसलिए कि इसका उपयोग करना आसान है इसका यह अर्थ नहीं है कि यह कम सुरक्षित है - यह उत्कृष्ट सुरक्षा सुविधाओं जैसे कि सैन्य-ग्रेड एन्क्रिप्शन, एक मार स्विच, और सही दूर गोपनीयता

साइबरहोस्ट की अन्य आकर्षक विशेषताओं में इसके पांच युगपत कनेक्शन, तेजी से गति, और पी 2 पी की अनुमति शामिल है। क्या अधिक है, आप प्रदाता की 30-दिन की पैसे वापस गारंटी का लाभ उठाकर इन सभी और अधिक का अनुभव कर सकते हैं

लिनक्स डिस्ट्रो के लिए वीपीएन – सोच-विचार

लिनक्स डिस्ट्रो

वर्तमान में 250 लिनक्स डिस्ट्रो (वर्शन) उपलब्ध हैं। यूजर-फ्रेंडली डिस्ट्रो जैसे उबुन्तु और मिंट नए लोगों को लिनक्स से अच्छी तरह परिचित कराते हैं।

टेल्स या क्यूबेस की तरह सुरक्षित और/या प्राइवेट न होने के बावजूद, ये अभी भी विंडोज या मैक ओएसएक्स या मैक ओएस की तुलना में बहुत अधिक सुरक्षित और गोपनीयता-अनुकूल हैं।

उबुन्तु और मिंट दोनों ही डेबियन पर आधारित हैं, और गोपनीयता समुदाय के कई लोग आधारभूत डेबियन को उपयोगकर्ता-अनुकूलता और गोपनीयता/सुरक्षा के बीच एक अच्छा सामंजस्य मानते हैं।

कुछ साल पहले उबुन्तु ने अमेज़न ऐड्स और संबंधित स्पाईवेयर की शुरुआत करके गोपनीयता समुदाय के कई लोगों को नाराज कर दिया था। लेकिन, उबुन्तु 16.04 एलटीएस के बाद से, इन्हें डिफ़ॉल्ट रूप से अक्षम कर दिया गया है। यद्यपि इस मुद्दे पर अभी भी कुछ खराबियां होंगी, लेकिन इसका मतलब है कि जब एक ऐसा ओएस चुनना पड़े जो आपकी गोपनीयता का सम्मान करे तब भी एक बार फिर उबुन्तु एक स्वीकार्य विकल्प साबित होता है।

यदि आप गोपनीयता के नाम पर थोड़ी-बहुत सुविधा का बलिदान करने के इच्छुक हैं तो सुरक्षा और गुमनामी के लिए निर्मित लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशंस पर आधारित मेरा लेख पढ़ें।

कस्टम लिनक्स वीपीएन क्लाइंट्स

अधिकांश प्रदाता, लिनक्स के लिए अपनी सेवाओं को मैनुअल तरीके से कॉन्फ़िगर करने के लिए सेटअप गाइड प्रदान करते हैं। ये सही है, लेकिन इसका मतलब है कि कस्टम क्लाइंटों द्वारा प्रदान की जाने वाली महत्वपूर्ण सुविधाएं गायब रहेंगी। इनमें से सबसे उल्लेखनीय नाम हैं किल स्विच और डीएनएस लीक प्रोटेक्शन

वर्तमान में विंडोज और मैक ओएस सॉफ्टवेयर में ख़ास तौर पर मिलने वाली सभी सुविधाओं से लैस लिनक्स क्लाइंट्स प्रदान करने वाले एकमात्र वीपीएन प्रदाता, जहाँ तक मैं जानता हूँ, एयर वीपीएन और मलवाड हैं।

एक्सप्रेस वीपीएन एक कस्टम लिनक्स क्लाइंट भी प्रदान करता है, लेकिन यह सिर्फ कमांड-लाइन है और सभी सुविधाओं से लैस नहीं है।

लिनक्स ओपन वीपीएन क्लाइंट

लिनक्स के लिए आधिकारिक ओपन सोर्स ओपन वीपीएन क्लाइंट अच्छी तरह काम करता है, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई आईपी लीक न हो, आपको आईपीटेबल्स को कॉन्फ़िगर करना चाहिए। इस तरह के आईपीटेबल फ़ायरवॉल नियम भी एक स्किल स्विच की तरह काम करते हैं।

ओपन वीपीएन को या तो नेटवर्क मैनेजर का उपयोग करके या सीधे टर्मिनल के जरिए चलाया जा सकता है। नेटवर्क मैनेजर ज्यादा आसान है, लेकिन नेटवर्क बाधित होने पर यह कभी-कभी ओपन वीपीएन कनेक्शन को समाप्त कर देता है।

इसलिए नेटवर्क मैनेजर का उपयोग करते समय लीक की रोकथाम के लिए आईपीटेबल्स को सेटअप करना बेहद जरूरी है। इस काम को करने के लिए आईवीपीएन में यहाँ एक बेहतरीन ट्यूटोरियल दिया गया है।

लिनक्स लाइव सीडी/डीवीडी/यूएसबी

अधिकांश लिनक्स डिस्ट्रो को सीधे एक लाइव सीडी/डीवीडी, और/या एक लाइव यूएसबी स्टिक से बूट और रन किया जा सकता है। इससे आपको अपने पर्सनल कंप्यूटर पर इसे इंस्टाल किए बिना डिस्ट्रो को आजमाकर देखने का मौका मिल जाता है। अपने लिए सबसे अच्छा लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम ढूँढने के लिए अलग-अलग लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टमों को आजमाकर देखने का यह एक बहुत बढ़िया तरीका है।

लिनक्स लाइव डिस्ट्रो, गोपनीयता और सुरक्षा की दृष्टि से भी बहुत बढ़िया होते हैं। असल में, ख़ास तौर पर सुरक्षा और गोपनीयता को ध्यान में रखकर तैयार किए गए डिस्ट्रो, मुख्य रूप से सिर्फ “लाइव” मोड में ही चलते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लाइव डिस्ट्रो, डिफ़ॉल्ट रूप से, अस्थायी रैम को छोड़कर कहीं और स्थानीय रूप से कोई डेटा सेव नहीं करते हैं।

इसका मतलब है कि जब पीसी को बंद या रिबूट किया जाता है तब ओएस या उस पर आपके द्वारा किए गए किसी भी काम का कोई निशान नहीं रह जाता है। इसी वजह से, लाइव डिस्ट्रो, मैलवेयर के हमलों से भी काफी हद तक सुरक्षित होते हैं।

कृपया ध्यान दें कि कम सुरक्षित लाइव डिस्ट्रो, लोकल ड्राइवों में डेटा स्टोर करने की अनुमति प्रदान करने का अनुरोध कर सकते हैं। यह सुविधाजनक हो सकता है, लेकिन यह एक लाइव सीडी/डीवीडी/यूएसबी का उपयोग करने के कई सुरक्षा और गोपनीयता लाभों को हटा देता है।

एक लिनक्स वर्चुअल मशीन के भीतर वीपीएन

लिनक्स को रन करने का एक और लोकप्रिय तरीका है एक वर्चुअल मशीन (वीएम) के भीतर। असल में बात यह है कि लिनक्स के कई वर्शन बहुत कम संसाधनों का उपयोग करते हैं जिसकी वजह से ये इतने प्रभावी होते हैं। वीपीएन के मामले में, एक वीएम के भीतर लिनक्स को चलाने से दो-चार दिलचस्प संभावनाएं पैदा हो जाती हैं।

डबल-हॉप वीपीएन

इस सेटअप के अंतर्गत आप अपने प्राइमरी ओएस (वीपीएन 1) में एक वीपीएन सर्वर से, और अपने वीएम (वीपीएन 2) में एक और वीपीएन सर्वर से कनेक्ट करते हैं। इससे एक “डबल-हॉप वीपीएन” का निर्माण होता है यदि आप वर्चुअल मशीन के भीतर से इंटरनेट सर्फ़ करते हैं।

प्राइमरी ओएस -> वीपीएन 1 -> वर्चुअल मशीन -> वीपीएन 2 -> इंटरनेट

इन वीपीएन सर्वरों को एक वीपीएन प्रदाता द्वारा, या अलग-अलग प्रदाताओं द्वारा चलाया जा सकता है। इस विषय पर सम्पूर्ण चर्चा के लिए कृपया वीपीएन सर्वरों को श्रृंखलाबद्ध करना पर आधारित मेरा लेख पढ़ें।

यहाँ एक लिनक्स वीपीएम का उपयोग करके डबल-हॉप वीपीएन को क्रियाशील रूप में देख सकते हैं

ये बात शायद ध्यान देने योग्य है कि यदि आप वीएम के भीतर एक वीपीएन को इंस्टाल (या टोर का उपयोग) नहीं करते हैं तो वीएम के भीतर आपका आउटफेसिंग आईपी एड्रेस आपके प्राइमरी ओएस के समान ही होगा। इसलिए यदि आप अपने प्राइमरी ओएस में एक वीपीएन का उपयोग करते हैं तो यह आपको वर्चुअल मशीन के भीतर इंटरनेट कनेक्शनों से भी रक्षा करेगा।

स्प्लिट-टनलिंग

स्प्लिट-टनलिंग आपको कुछ वेबसाइटों को एक वीपीएन का उपयोग करके, और कुछ वेबसाइटों को किसी वीपीएन का उपयोग किए बिना एक्सेस करने की अनुमति देता है। एक वीएम के भीतर लिनक्स का उपयोग करना भी ऐसा करने का एक तरीका है। बस वर्चुअल मशीन के भीतर एक वीपीएन को इंस्टाल करके रन करना होता है, और क्या!

वीएम के भीतर से एक्सेस की गई वेबसाइटें, वीपीएन द्वारा सुरक्षित होंगी, जबकि आपके प्राइमरी ओएस (या किसी अन्य वीएम) के जरिए एक्सेस की गई वेबसाइटें सुरक्षित नहीं होंगी।

लिनक्स में ओपन वीपीएन को सेटअप करने का तरीका (उबुन्तु में नेटवर्क मैनेजर का उपयोग करके)

  1. एक टर्मिनल विंडो खोलकर निम्नलिखित को टाइप करके नेटवर्क मैनेजर के लिए उबुन्तु ओपन वीपीएन पैकेजों को डाउनलोड और इंस्टाल करें:

sudo apt-get install network-manager-openvpn openvpn

  1. नेटवर्क मैनेजर को फिर से चालू करें। उबुन्तु को फिर से चालू करके या लॉग आउट करने के बाद फिर से लॉग इन करके ऐसा किया जा सकता है, लेकिन टर्मिनल कमांड प्रोम्प्ट में निम्नलिखित को दर्ज करना सबसे आसान होगा:

sudo restart network-manager

  1. वीपीएन प्रदाता के ओपन वीपीएन कॉन्फ़िगरेशन गाइड्स को डाउनलोड करें, और उन्हें एक सुविधाजनक स्थान में एक्सट्रेक्ट करें।

LINUX OPENVPN ZIP

  1. नेटवर्क मैनेजर को खोलें और VPN Connections -> Configure VPN पर क्लिक करें…

  1. ‘Add’ पर क्लिक करें।

  1. ड्रॉप-डाउन मेनू से ‘OpenVPN’ का चयन करें और ‘Create’ पर क्लिक करें…

  1. अच्छी तरह देख लें कि ‘VPN’ टैब का चयन किया गया हो, और ‘Gateway’ फील्ड में अपने प्रदाता द्वारा दिया गया वीपीएन सर्वर एड्रेस दर्ज करें। ‘Authentication’ के अंतर्गत, ड्रॉप-डाउन ‘Type’ मेनू से ‘Password’ का चयन करें और अपना खाता विवरण दर्ज करें। उसके बाद ‘CA Certificate’ फील्ड पर क्लिक करें और आपने दूसरे चरण में ओपन वीपीएन कॉन्फिग फाइलों को जहाँ अनज़िप किया था वहाँ .crt फ़ाइल तक जाएं। ‘Advanced’ पर क्लिक करें …

  1. ‘Use LZO data compression’ को चयनित करें (कृपया ध्यान दें कि ऐसा करने की जरूरत नहीं भी पड़ सकती है, या आपके वीपीएन प्रदाता के आधार पर अलग-अलग सेटिंग्स की जरूरत भी पड़ सकती है)। ‘OK’ पर क्लिक करें और उसके बाद ‘Save’ पर क्लिक करें, और बस हो गया, सेटअप कम्प्लीट!

  1. वीपीएन कनेक्शन को शुरू करने के लिए, बस NetworkManager -> VPN Connections -> your connection में जाएं

  1. अब आप कनेक्ट हो गए हैं! ध्यान से देखिए, नेटवर्क मैनेजर टास्कबार आइकन में अब एकदम नीचे दायीं तरफ एक छोटा सा पैडलॉक दिखाई दे रहा है जो इस बात का संकेत है कि वीपीएन कनेक्शन सक्रिय है। अब किसी भी आईपी लीक की रोकथाम के लिए आईपीटेबल्स को कॉन्फ़िगर करें ऐसा करने से एक किल स्विच का भी काम हो जाता है।

निष्कर्ष

किसी भी वीपीएन सेवा को लिनक्स के साथ काम करने में सक्षम होना चाहिए, और अधिकांश सेवाएं ऐसा करने के लिए अच्छे-अच्छे मैनुअल सेटअप गाइड प्रदान करती हैं। लिनक्स पीपीटीपी और एल2टीपी प्रोटोकॉल का समर्थन करता है, लेकिन मैं इसके बजाय ओपन वीपीएन का उपयोग करने का ही सुझाव दूंगा।

आधिकारिक ओपन वीपीएन क्लाइंट अच्छा है लेकिन, कोई आईपी लीक नहीं होता है, यह सुनिश्चित करने के लिए आईपीटेबल्स को ठीक से कॉन्फ़िगर और उपयोग करना भी जरूरी है। यह ख़ास तौर पर एकदम सही साबित होता है जब आप नेटवर्क मैनेजर के जरिए ओपन वीपीएन का उपयोग कर रहे होते हैं। यद्यपि अधिकांश लिनक्स उपयोगकर्ताओं को इसमें बहुत ज्यादा परेशानी नहीं होनी चाहिए जिन्हें कुछ हद तक हैंड-होल्डिंग के अभाव की आदत पड़ गई है!

वैकल्पिक रूप से, एयर वीपीएन और मलवाड ओपन सोर्स लिनक्स क्लाइंट्स प्रदान करते हैं जिनमें आईपी लीक प्रोटेक्शन और किल स्विच सहित, अपने विंडोज और मैकओएस भाइयों की सारी खूबियाँ हैं।

आपके लिनक्स ओएस के लिए सबसे अच्छा वीपीएन – सारांश

Douglas Crawford
April 10th, 2018

I am a freelance writer, technology enthusiast, and lover of life who enjoys spinning words and sharing knowledge for a living. You can now follow me on Twitter - @douglasjcrawf.

20 के उत्तर “2018 के लिए 5 सबसे अच्छी लिनक्स वीपीएन सेवाएं

  1. JorkanoFaln कहते हैं:

    Hi,
    You forgot about perfect privacy vpn in your review this vpn has a linux GUI client and complies with privacytools.io criteria. I don’t understand why NordVPN is the second best VPN for Linux, if the latter doesn’t even have a client for Linux. The VPN services, I know have a Linux client are: Perfect-Privacy (GUI), Mullvad (GUI), AirVPN (GUI), Private Internet Access (GUI) as well as Expressvpn (CLI). Could you also write an article on the best VPNs for hackers (white hat) and tech professionals?

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi JorkanoFaln,

      Yeah. I have raised this point with our team before. Our 5 Best lists are a group decision, and the team decided the overall advantages of NordVPN and CyberGhost outweighed the fact that they don’t have dedicated Linux clients. Pefect Privacy and PIA are both good VPN services, however, so I will raise the issue again.

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi jose,

      Indeed. As already noted, this list is not intended to be exclusive.

  2. Count कहते हैं:

    Hi Douglas,

    I was wondering would you be open to increasing the number in the definition of best because to be quite honest I think you’re being extremely unfair to some other VPN Service Providers that are just as as good if not better and most certainly work just as hard as the others into devlivery a brillaint client for their current customers and to newcomers that are looking for a proprietery Linux client that offer similar if not exactly the same functionality and security overall in contrast to their client on other OS’s.

    Further more, I think if you were to at least restrict it a top 9 or 14 it would make sense though you may still be unfair to a some toher but it would be understanding in terms of the effort you put into research and the actually credibilty behind the term, ‘best’. I say this because having got some brillaint suggestions for you related to your website, I was further surprised you didn’t come across Proxy.sh as one to list in this page and other pages and wish you’d include it in your list if you take one of my suggestions by increasing the number of ‘best’ providers.

    I wish to enagage in further discussions with you relating to this and similar things as well as particular project, you may be interested in.

    I’ll look foward to your reply.

    Regards

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi Count,

      We have restrictive out lists to “5 Best” because we feel that most visitors will bet bored reading through even longer lists. Of course such lists are not exclusive, and there are many other fine providers out there. We have a Proxy.sh Review, but it is, admittedly, very old and badly in need of updating.

  3. enrique कहते हैं:

    proprietary software & hardware “component” = gps activation/module ?

    Do not let’s forget that the industry answers to the request of their clients & customers and if the gps is often a hardware feature or an electronic component it could be also a function, some lines of codes, a micro_module inserted/embedded inside the gpu:cpu (topics about that were posted long years ago but seem to have been erased since from the web) and , even if a commercial project makes money with a proprietary software ; it can be run using free soft/gratis.

    ^ blue-tooth are often (if not always) gps embedded and a chipset-processor function / built-in Global Positioning System.
    ^ Phones with Qualcomm X12 modems use Qualcomm transceiver chips, and those using the Intel XMM 7360 use Intel’s transceivers.
    ^ Quad-band GSM/GPRS module with embedded Bluetooth module and embedded cell tower locator.

    – Dell latitude 10 : integrated Broadcom GNSS Receiver BCM47511 (GPS,Glonass…).
    driver from Lenovo (which makes Broadcom GNSS work properly)
    – Rugged Extreme laptops
    – Dell Latitude E6500

    + http://www.curiousmentality.co.uk/2009/06/using-the-dell-latitude-e6400-built-in-gps/
    + https://www-ssl.intel.com/content/www/us/en/mobile/modem-solutions.html
    + http://forums.appleinsider.com/discussion/194666/low-end-intel-kaby-lake-processors-detailed-macbook-pro-version-absent
    [Intel can build both Apple’s processors in it’s 10nm fab. Intel can also help build integrated A-processor CPU/GPU/Wifi/LTE.BT/GPS/etc on single chip like this news — Samsung launches first Exynos chip with all radios built in( to handle LTE, FM, Bluetooth, WiFi and GPS.]

    *uninstall telnet
    *replace their dns by your dns
    *read vpn-reviews

    # i wonder why the vpn provider have missed the target of the sub-note (10°) and why you have not test their hardware performance/security/privacy : ikit(in the palm of a hand) : storex(in a pocket) : asus/hp(in a bag) … seem to be a quick & discreet way to be connected through vpn.
    # i should wish they improve their product with a good network card and a safe cpu (i do not like the wifi:blue-tooth).

  4. malik कहते हैं:

    > Perhaps
    Depending on the brand & the serie & the country where your computer/laptop/subnote is coming from … some vulnerabilities/feature_malware/backdoor_system management/hijacking_bios/rootkit/gps embedded could be an option and enabled or could be slept as a ‘suspend’ service.)
    # the price includes all the improvement.

    ibm (Thinkpad) & dell (Latitude) are famous for their bizare configuration …
    #are there ingeniors working in their team ?

    A lot of clones are strange (quality/price are good) – (acer/hp/iKit/storex)
    # who have reviewed it with privacy in mind ?

    Is coreduo a danger ?
    # no, it is not but a lot of misinformation & brain washing -propaganda- are confusing the user and it is not fair. The user wants to be independant/autonomous owner of his tool.

    https://security.stackexchange.com/questions/50907/are-there-gps-tracker-for-laptops
    https://stackoverflow.com/questions/15702355/what-is-the-difference-between-the-firmware-and-the-operating-system

    Some laptops and netbooks are GPS-enabled and provide navigational information while on the go.
    gps-backdoor/remote coontrol :
    -rtc & gps & WebRTC
    -firmware & battery
    -anti-theft/Data Protection
    -builtin GPS in a mini-pci card + SIM
    -A full array of wireless communications options come built in: 802.11n Wi-Fi, Bluetooth, WWAN, and even GPS (2008)
    -Trusted Platform Module
    -Internal GPS fitted to Tablets and laptops.
    Computer peripheral devices :
    Devices connecting to the computer via USB, Bluetooth or expansion slots (sd card/card reader e.g.) allow the computer to utilize the GPS system.

    *wake on lan must be turned off , the browser must be tweaked a little , you must also -if you are paranoid- unplug your internet cable from your computer when it is not in use.

    *sparsky vs ubuntu ? both are built from unstable debian version and both are fun, user friendly, etc.
    unstable means untrust.

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi malik,

      Re. GPS. I am not disputing that it exists in some laptops, but (as I understand it) this is an additional hardware module, not part of the Intel processor. I would also think that to work it would require propriety software – something that would be removed if you install a Linux distro instead of the software the laptop ships with.

  5. aka_meli कहते हैं:

    some mistakes :
    * https://www.anonymousvpn.eu/ is not https://www.anonymousvpn.org/
    * Actually there are vulnerability in all Intel CPUs (skylab backdoor + IME + joint-venture + gps)
    * Actually there are vulnerability in all ubuntu version (ubuntu 16.04 backdoor + policy of the o.s/soft)
    * Ubuntu is shunned for spying (free software foundation). The latest stable release is Ubuntu (GNOME_3.20) 16.10 _ many apps have been updated to their GNOME 3.22 versions.
    * unity was one of the ubuntu backdoor known like ime is one of the intel backdoor known ; another “bugs” are present and hidden by the discover of unity/ime.
    * Tor has a blog where the comments are censored and where the posts are rarely opened for discusion – tweet mode –

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi aka_meli,

      – My mistake. I am not aware of https://www.anonymousvpn.eu/.
      – As already noted, I am fully aware of the IME backdoor in all Intel chips more recent than 2006. I am not, however, aware of the other vulnerabilities you mention, and a quick search is not helping me. Perhaps you could explain (although I’m prettey sure that at least most Intel chips do not contain a GPS component)?
      – Ubuntu was widely shunned because of a feature of the Unity desktop environment called Dash, a unified search bar that allows users to search for apps, documents, music, and other data locally, as well as to perform searches on the internet. Thing is, though, that in its desire to monetize what is a free OS, developer Canonical Lmt., has struck a deal with the devil Amazon. All search queries are also sent to Amazon, and you will then be shown ads for Amazon products relating to your search terms! Even worse, these highly intrusive ads load in a very insecure way that can allow hackers to spy searches.

      This “feature” could be disabled, but if Ubuntu has switched to the Gnome desktop (something I was not aware of), this should no longer be an issue.

  6. alikerom कहते हैं:

    > “vpn is an option with tor.”
    > ubuntu must be avoided
    2017/january/
    – Ubuntu : avoided / backdoor inside the O.S and the new intel ship contains also one (cf : richard stallman conference)
    – Ubuntu & derivative are user-friendly & fun but not at all designed with security/anonimity/privacy in mind.
    – {tor + vpn} are options in serious discussions in different place/time : advantages vs cons.
    _+ In fact you must try & test and depending on your location, your usage, your habits and your vpn , the option 1° can be better than the option 2° but it is not supported by all vpn provider : Tor + vpn is rare ; most of users take the option 2° : vpn + Tor.
    note : Tor team recommend using TorBundle without vpn ; these options add a layer but it is not proven that it could be better without
    _+ Available does not never mean “updated” or “solid & validated by expert” – it is never the case :
    (e.g : https://www.anonymousvpn.eu/ = bad _ except maybe for usa guys living in the same state of the vpn provider/relays but who will trust an obscure service as anonimity/security tool again ?)).
    (e.g : tor in the depo = bad _ always download tor at the official site and check it with its official pgpkey.)

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi alikerom,

      – The main privacy worried in Ubuntu Unity can now be disabled. A more nuclear option is to replace the Unity desktop entirely. GNOME 3 (Ubuntu GNOME 15.10 is now available,) KDE, or Cinnamon are all good options.. For more information on this please see here.
      – The IME “backdoor” in all newer Intel chips is almost impossible to avoid (and all major alternative platforms have a similar issue). Please see this article for more details.
      – Please see 5 Best VPNs when using Tor for discussion o the pros and cons of using VPN through Tor and Tor through VPN.
      – This is true, but the very fact Open source / Source available code can be interdependently audited is the best protection we have.
      – Our reviewer (no longer with us) gave AnonymousVPN a real kicking in his review.

  7. GoodSurf कहते हैं:

    – ubuntu is user-friendly but like said kalimero must be avoided for two important risks :
    1- it contains some backdoor
    2- it is built on the testing (unstable) version of debian

    – Using tor , a vpn is an option and that because tor needs to be run by all the users in the same way_configuration = without vpn , tor alone.

    – tor + vpn or vpn + tor is better according on my point of view but choose carefully the vpn provider.

  8. Nigel H कहते हैं:

    I have PIA on Mint with the same GUI that as the Windows application.

    You can download it from the PIA site…

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi Nigel,

      So… I downloaded the PIA Linux/Ubuntu software again (using Mint), and it does indeed have the same GUI as the Windows application. I don’t know whether this is new, or is something somehow I missed when writing this article, but it does mean that when I next update this piece I will rank PIA higher than its current position. Thanks for bringing this to my attention. I have made a couple of edits in order to include this information.

  9. kalimero कहते हैं:

    vpn is an option with tor but ubuntu must be avoided.

    1. Douglas Crawford कहते हैं:

      Hi kalimero,

      I’m afraid that I don’t really understand what you mean by “vpn is an option with tor.” It is certainly possible to use VPN and Tor together. Ubuntu did come bundled with adware/malware, but this has been made opt-in, so is much less of a concern.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *