NordVPN

शुरू करने वालों के लिए वीपीएन – आपके लिए जो जानना जरूरी है

Douglas Crawford

Douglas Crawford

जनवरी 20, 2016

वीपीएन क्या है?

एक वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) आपको एक वीपीएन प्रदाता द्वारा चलाए जाने वाले एक सर्वर के माध्यम से इंटरनेट से कनेक्ट होने की अनुमति देता है। आपके कंप्यूटर, फोन या टैबलेट, और इस “वीपीएन सर्वर” के बीच आने-जाने वाले सभी डेटा को सुरक्षित ढंग से एनक्रिप्ट किया जाता है। इस सेटअप के परिणामस्वरूप, वीपीएन: vpns_for_beginners

  • आपके आईएसपी (और सरकार) से आपकी इंटरनेट गतिविधि को छिपाकर गोपनीयता प्रदान करते हैं।
  • आपको (स्कूल, काम, आपके आईएसपी, या सरकार द्वारा) सेंसरशिप से बचने की अनुमति देते हैं।
  • आपकी भौगोलिक स्थिति के आधार पर (या जब आप छुट्टी पर होते हैं) अनुचित ढंग से आपको न दी जाने वाली सेवाओं को एक्सेस करने के लिए आपको अपने लोकेशन “भू-चकमा” देने की अनुमति देते हैं।
  • एक पब्लिक वाईफाई हॉटस्पॉट का उपयोग करते समय हैकरों से आपकी रक्षा करते हैं।
  • आपको सुरक्षित ढंग से पी2पी डाउनलोड करने की अनुमति देते हैं।

वीपीएन का उपयोग करने के लिए आपको सबसे पहले एक वीपीएन सेवा के लिए साइन अप करना होगा, जिसके लिए आम तौर पर 5 से 10 डॉलर प्रति महीने का खर्च आता है (एक ही बार में 6 महीने या एक साल का सब्सक्रिप्शन लेने पर कुछ बचत भी हो जाती है)। वीपीएन का उपयोग करने के लिए एक वीपीएन सेवा के साथ एक कॉन्ट्रैक्ट करना पड़ता है।

आज ही एक शानदार वीपीएन सेवा प्राप्त करें

आपको सबसे तेज और सबसे अच्छी सेवाओं के बारे में बताने के लिए हम तरह-तरह के वीपीएन की समीक्षा करते हैं

आज ही एक वीपीएन की मदद से इंटरनेट को अनलॉक करें

कृपया ध्यान दें कि एक वीपीएन सेवा एक इंटरनेट सेवा प्रदाता की जगह नहीं ले सकती है, क्योंकि आपका आईएसपी ही आपको सबसे पहले आपका इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करता है।

कमर्शियल बनाम कॉर्पोरेट वीपीएन पर एक नोट

वीपीएन टेक्नोलॉजी का विकास असल में दूरवर्ती कर्मचारियों को ऑफिस से दूर रहने पर कॉर्पोरेट संसाधनों को एक्सेस करने के लिए कॉर्पोरेट नेटवर्कों से सुरक्षित ढंग से कनेक्ट करने के लिए किया गया था। यद्यपि आज भी वीपीएन का उपयोग इस काम के लिए किया जाता है, लेकिन अब इसका मतलब थोड़ा बदल गया है और इसका उपयोग आम तौर पर कमर्शियल वीपीएन सेवाओं के रूप में किया जाने लगा है जो ग्राहकों को अपने सर्वरों के माध्यम से गोपनीय ढंग से इंटरनेट को एक्सेस करने की अनुमति देती हैं।

इस लेख (और बेस्ट वीपीएन वेबसाइट) में विशेष रूप से इन कमर्शियल वीपीएन सेवाओं का ही उल्लेख है, और यहाँ वीपीएन शब्द के उपयोग को गलती से प्राइवेट कॉर्पोरेट नेटवर्कों से संबंधित नहीं समझना चाहिए जो (अन्तर्निहित टेक्नोलॉजी में क्रॉसओवर और समानताओं के बावजूद) इससे एकदम अलग हैं।

 

यह कैसे काम करता है?

vpns_for_beginnersआम तौर पर, जब आप इंटरनेट से कनेक्ट करते हैं तब आप सबसे पहले अपने इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) से कनेक्ट करते हैं, जो तब आपको उस वेबसाइट (या अन्य इंटरनेट संसाधन) से कनेक्ट करता है जहाँ आप जाना चाहते हैं। आपका सारा का सारा इंटरनेट ट्रैफिक आपके आईएसपी के सर्वरों से होकर गुजरता है जिसे आपका आईएसपी देख सकता है।

वीपीएन का उपयोग करते समय आप एक एनक्रिप्टेड कनेक्शन (जिसे कभी-कभी “वीपीएन टनल” भी कहा जाता है) के माध्यम से आपके वीपीएन प्रदाता (एक “वीपीएन सर्वर”) द्वारा चलाए जाने वाले एक सर्वर से कनेक्ट करते हैं। इसका मतलब है कि आपके कंप्यूटर और वीपीएन सर्वर के बीच आने-जाने वाले सभी डेटा एनक्रिप्टेड होते हैं ताकि सिर्फ आप और वीपीएन सर्वर इसे “देख” सकते हैं।

इस सेटअप के कई महत्वपूर्ण परिणाम होते हैं:

1. आपका आईएसपी यह जान नहीं पाता है कि आप इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं

  • यह आपका डेटा देख नहीं पाता है क्योंकि यह एनक्रिप्टेड होता है।
  • यह जान नहीं पाता है कि आप किस वेबसाइट में जा रहे हैं क्योंकि सारी इंटरनेट गतिविधि, वीपीएन सर्वर से होकर पूरी होती है। आपका आईएसपी सिर्फ यही देख सकता है कि आप वीपीएन सर्वर से कनेक्टेड हैं।

2. लगता है, आप वीपीएन सर्वर के आईपी एड्रेस से इंटरनेट एक्सेस कर रहे हैं

  • यदि वीपीएन सर्वर, आपसे दूर किसी अन्य देश में स्थित है तो इंटरनेट की दृष्टि से आप उस देश में स्थित दिखाई देते हैं (अधिकांश वीपीएन सेवाएं कई अलग-अलग देशों में स्थित सर्वरों का संचालन करती हैं)।
  • इंटरनेट से आपकी इंटरनेट गतिविधि पर नजर रखने वाला कोई भी व्यक्ति सिर्फ वीपीएन सर्वर तक ही आपका पीछा कर पाएगा, इसलिए जब तक वीपीएन प्रदाता आपका विवरण नहीं सौंपता है (इसके बारे में और अधिक जानकारी बाद में जाएगी), तब तक आपका असली आईपी एड्रेस छिपा रहता है। इसका मतलब है कि वेबसाइट इत्यादि आपका असली आईपी एड्रेस नहीं देख सकती हैं (बस सर्वर का आईपी एड्रेस देख सकती हैं)।

3. पब्लिक वाईफाई हॉटस्पॉट का उपयोग करना सुरक्षित है

चूंकि आपकी डिवाइस और वीपीएन सर्वर के बीच के इंटरनेट कनेक्शन को एनक्रिप्ट कर दिया जाता है इसलिए यदि एक हैकर किसी तरह आपके डेटा को, उदाहरण के तौर पर, आपको चालाकी से एक “ईविल ट्विन” हॉटस्पॉट से कनेक्ट करके या आपके वाईफाई डेटा की पैकेट-स्निफिंग करके इंटरसेप्ट करने में कामयाब हो भी जाता है तब भी आपका डेटा एनक्रिप्ट होने के कारण सुरक्षित रहता है।

4. आपका वीपीएन प्रदाता यह जान सकता है कि आप इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं

  • इसलिए आप अपने आईएसपी (जो आपकी गोपनीयता की रक्षा करने का कोई वादा नहीं करता है या उसमें कोई रुचि नहीं लेता है) के बजाय अपने वीपीएन प्रदाता पर भरोसा करने लगते हैं जो आम तौर पर आपकी गोपनीयता की रक्षा करने का वादा करता है।
  • अधिक गोपनीयता केन्द्रित वीपीएन सेवाएं आपके बारे में कम से कम जानने के लिए तरह-तरह के तकनीकी उपाय करके इस समस्या को कम कर देती हैं। इसके बारे में और ज्यादा जानकारी बाद में दी जाएगी।

5. आपका इंटरनेट धीमा हो जाएगा क्योंकि:

  • डेटा को एनक्रिप्ट और डिक्रिप्ट करने के लिए प्रोसेसिंग पावर की जरूरत पड़ती है। इसका मतलब यह भी है कि तकनीकी दृष्टि से, जितना मजबूत एनक्रिप्शन किया जाएगा, आपका इंटरनेट एक्सेस उतना धीमा होगा। लेकिन, आधुनिक कंप्यूटरों की ताकत को देखते हुए, यह समस्या अब पहले की तुलना में मामूली रह गई है…
  • आपके डेटा द्वारा तय की गई अतिरिक्त दूरी। वीपीएन का उपयोग करने से आपके डेटा को हमेशा अतिरिक्त यात्रा करनी पड़ती है (अर्थात् वीपीएन सर्वर तक) और भौतिकी के नियम के कारण, आपके डेटा को जितनी लम्बी यात्रा करनी पड़ेगी उतना अधिक समय लगेगा।

यदि आप किसी आसपास स्थित वेबसाइट को एक्सेस करने के लिए भौगोलिक दृष्टि से आसपास स्थित वीपीएन से कनेक्ट करते हैं तो आपको वीपीएन का उपयोग किए बिना मिलने वाली स्पीड की तुलना में लगभग 10 प्रतिशत कम स्पीड मिल सकती है। यदि आप इससे दूर स्थित सर्वर से कनेक्ट करते हैं तो आपको और कम स्पीड की उम्मीद करनी चाहिए।

ऐसा भी होता है कि कुछ वीपीएन प्रदाता, दूसरों से बेहतर स्पीड देते हैं, और इसीलिए हमने यहाँ जो समीक्षा प्रकाशित की है उसमें स्पीड टेस्ट का विस्तृत विवरण दिया गया है। सर्वर प्रोसेसिंग पावर, उपलब्ध बैंडविड्थ, और लोड (एक ही समय में आपकी तरह और कितने लोग सर्वर का उपयोग कर रहे हैं) जैसे कारणों से इंटरनेट स्पीड पर काफी असर पड़ता है।

अन्य सभी चीजें बराबर होने पर, वीपीएन का उपयोग करते समय बेहतर प्रदर्शन पाने के लिए, आप जिस वेबसाइट या सेवा का उपयोग करना चाहते हैं आपको उसके एकदम पास और अपने लोकेशन के पास के वीपीएन सर्वर से कनेक्ट करना चाहिए।

उदाहरण के लिए, यदि मैं यूके से यूएस नेटफ्लिक्स को एक्सेस करना चाहता हूँ तो मैं यूएस में स्थित लेकिन यूके के जितना करीब हो सके उतना पास के सर्वर से कनेक्ट करूंगा (नॉर्दन ईस्ट कोस्ट में कहीं, जैसे न्यूयॉर्क, सही रहेगा)।

अभी हमारे शीर्ष 5 सबसे तेज और विश्वसनीय वीपीएन देखें >

क्या यह कानूनी है?

हाँ। अधिकांश देशों में नागरिकों को गोपनीयता का कानूनी अधिकार होता है, और जहाँ तक मैं जानता हूँ, कहीं भी एक वीपीएन सेवा का उपयोग करना गैर-कानूनी नहीं है।

vpns_for_beginners

अधिकांश दमनकारी देश जैसे चीन और ईरान, जो वीपीएन द्वारा प्रदान किए जाने वाले इंटरनेट के अप्रतिबंधित और अनुत्तरदायी एक्सेस को जाहिर तौर पर पसंद नहीं करते हैं, ऐसे देश अपने देश में वीपीएन सेवाओं के संचालन पर रोक लगा देते हैं, और उपयोगकर्ताओं को विदेशी वीपीएन सेवाओं को एक्सेस करने से रोकने की कोशिश करते हैं।

लेकिन, यहाँ तक कि चीन में भी, जिसके पास दुनिया का सबसे परिष्कृत इंटरनेट सेंसरशिप सिस्टम है, ऐसी रोक-टोक सिर्फ आंशिक रूप से ही सफल होती है (हमने अभी तक सिर्फ वीपीएन का उपयोग करने की वजह से किसी को परेशानी में पड़ते नहीं सुना है)।

यूरोप में व्यापक-रेंज वाले निगरानी कानूनों को लागू करके कई सरकारों ने आतंकवाद के खतरे को समाप्त कर दिया गया है, और कई देशों में (ऐसे फ्रांस और यूके) वीपीएन प्रदाताओं को उपयोगकर्ताओं की गतिविधि का लॉग रखना पड़ता है। इसलिए गोपनीयता की चाह रखने वाले वीपीएन उपयोगकर्ता ऐसे देशों में स्थित किसी सेवा का उपयोग करने से परहेज करते हैं, और ऐसे देशों में स्थित सर्वरों का उपयोग करते हैं जहां कानूनी तौर पर लॉग रखने की जरूरत नहीं होती है।

मैं कहाँ से शुरू करूँ?

बाजार में बहुत बड़ी संख्या में वीपीएन सेवाएं उपलब्ध हैं जो आपका ध्यान आकर्षित करने की होड़ में लगी हुई हैं, और दुर्भाग्य की बात है कि सभी वीपीएन प्रदाता एक जैसे नहीं होते हैं। इसलिए आपको सबसे पहले बेस्ट वीपीएन जैसी साइटों पर इनसे जुड़ी समीक्षाओं और सुझावों को देखना चाहिए (हम भी यही करते हैं)। उदाहरण के लिए, इस पेज , में सबसे अच्छी वीपीएन सेवाओं का सबसे व्यापक सारांश दिया गया है।

vpns_for_beginners

शायद सबसे पहले इस बात पर विचार करना चाहिए कि आप मुख्य रूप से किस लिए एक वीपीएन का उपयोग करना चाहते हैं। गोपनीयता के लिए या इंटरनेट सर्फ़ करने के लिए? बिना किसी चिंता-फ़िक्र के डाउनलोड करने के लिए? ग्रेट फायरवॉल ऑफ़ चायना से बचने के लिए? या सिर्फ विदेश से भू-अवरुद्ध टीवी स्ट्रीमिंग सेवाओं को एक्सेस करने के लिए?

यद्यपि लगभग सभी वीपीएन सेवाएं कुछ हद तक कुछ आधारभूत सुविधाएं देती हैं लेकिन एक परिपूर्ण वीपीएन सेवा बनने के लिए उनमें सभी सुविधाएँ नहीं होती हैं। इसलिए आपको कम से कम निम्नलिखित चीजों पर तो ध्यान देना ही चाहिए:

  • कीमत (बेशक!)
  • स्पीड – अतिरिक्त दूरी तय करने और एनक्रिप्शन/डिक्रिप्शन की मांग को पूरा करने के कारण वीपीएन की वजह से हमेशा कुछ इंटरनेट स्पीड का नुकसान होता है (जैसा कि पहले बताया जा चुका है)।
  • गोपनीयता – सभी वीपीएन प्रदाता गोपनीयता का वादा करते हैं लेकिन असल में इसका मतलब क्या है? इस पर चर्चा के लिए नीचे “क्या एक वीपीएन मुझे गुमनाम बनाता है?” देखें।
  • सुरक्षा– आपके डेटा को जबरदस्ती एक्सेस करने वाले एक वैरी (हैकर, एनएसए, इत्यादि) को रोकने के लिए उपयोग किए जाने वाले तकनीकी उपाय कितने अच्छे हैं। एक बार फिर, विस्तार से जानने के लिए नीचे देखें।
  • देशों/सर्वरों की संख्या – यदि आपको हर जगह स्थित सर्वरों से कनेक्ट करने की जरूरत है तो सर्वर जितने अधिक होंगे उतना अच्छा होगा, और आपकी पसंद के स्थान में एक सर्वर की संभावना भी अधिक रहती है।
  • समकालिक कनेक्शनों की संख्या – कुछ प्रदाता आपको अपनी सेवा से एक बार में सिर्फ एक डिवाइस को कनेक्ट करने देंगे जबकि अन्य प्रदाता आपको एक बार में अपने सभी पीसी, लैपटॉप, फोन, एक्सबॉक्स और गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड के टैबलेट को कनेक्ट करने की अनुमति देता है। जितना ज्यादा उतना अच्छा!
  • ग्राहक सहायता – – कई वीपीएन उपयोगकर्ता अभी भी वीपीएन का उपयोग करना सीख रहे होते हैं, इसलिए ग्राहक सहायता (a) जिससे वास्तव में एक उचित समय सीमा के भीतर आपके प्रश्नों का उत्तर मिल जाता है, और (b) जिसे मालूम होता है कि किस बारे में बात किया जा रहा है, अनमोल हो सकते हैं।
  • फ्री ट्रायल और मनी बैक गारंटियां – कोई सेवा आपके काम की है या नहीं, इसका पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका शायद उसे खरीदने से पहले खुद एक बार आजमाकर देखना है!!
  • सॉफ्टवेयर– वीपीएन क्लाइंट्स को सिर्फ देखने में अच्छा और उपयोग करने में आसान ही नहीं होना चाहिए बल्कि वे ढेर सारी मस्त सुविधाएं भी जोड़ सकते हैं। इनमें से सबसे अधिक उपयोगी है वीपीएन किल स्विच और डीएनएस लीक प्रोटेक्शन।
  • क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म सपोर्ट – एक सेवा का कोई उपयोग नहीं है यदि वह आपकी डिवाइस/ओएस पर नहीं चल सकती। सपोर्ट में अलग-अलग प्लेटफ़ॉर्म, या समर्पित ऐप्स (क्योंकि यह आईओएस और एंड्रॉयड डिवाइसों के लिए लगातार आम होता जा रहा है) के लिए विस्तृत सेटअप गाइड्स शामिल हो सकते हैं।
  • अन्य सुरक्षा और सावधानियां – कुछ प्रदाता ग्रेट फ़ायरवॉल ऑफ़ चायना से बचने के लिए “स्टील्थ सर्वर”, मुफ्त स्मार्टडीएनएस या क्लाउड स्टोरेज, सजावटी सुरक्षा विकल्प (जैसे ‘टोर के माध्यम से वीपीएन’), इत्यादि सुविधाएं प्रदान करते हैं।

वीपीएन लगभग सभी कंप्यूटर-प्रकार की डिवाइसों के लिए उपलब्ध है जिसमें डेस्कटॉप, लैपटॉप, स्मार्टफोन, और टैबलेट भी शामिल हैं।

प्रत्येक प्रदाता पूरी तरह विंडोज़, मैक ओएसएक्स, एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्मों को सपोर्ट करता है, और कई प्रदाता लिनक्स और क्रोम ओएस (यदि सिर्फ अप्रत्यक्ष रूप से) को भी सपोर्ट करते हैं। लेकिन ब्लैकबेरी ओएस और विंडोज़ मोबाइल डिवाइसों के लिए सपोर्ट बहुत ज्यादा ताकतवर होता है।

एक वीपीएन सेवा के लिए साइन अप करने के लिए, बस उसकी वेबसाइट में जाएं और वहां दिए गए लिंक्स को फोलो करें। आपका प्रदाता आपको निर्देश देगा कि आगे क्या करना है, या हमारी सभी सम्पूर्ण समीक्षाओं में एक “प्रक्रिया” खंड है जिसमें प्रत्येक प्रदाता की सम्पूर्ण प्रक्रिया का विवरण दिया गया है।

दिलचस्प बात है, आप वीपीएन के लिए जो भुगतान करते हैं और आपको जो सेवा मिलती है उसके बीच बहुत ज्यादा सह-सम्बन्ध दिखाई नहीं देता है, इसलिए मैं फिर से यही सुझाव देता हूँ कि आप हमारी समीक्षाओं (‘पाठकों की टिप्पणियां’ खंड सहित) को पढ़ें और फ्री ट्रायल और मनी-बैक गारंटियों का फायदा उठाएं जिससे आपको इनमें से किसी को चुनने का फैसला करने में काफी मदद मिलेगी।

अभी हमारे 5 शीर्ष और विश्वसनीय वीपीएन देखें >

मुफ्त वीपीएन

vpns_for_beginnersमुफ्त वीपीएन सेवाएं उपलब्ध हैं लेकिन ये किसी न किसी तरह अत्यंत सीमित होती हैं, या इन पर भरोसा नहीं किया जा सकता क्योंकि ये आपका डेटा बेच देती हैं। एक वीपीएन सेवा को चलाना सस्ता नहीं है, इसलिए आपको अपने आपसे एक सवाल करना चाहिए कि एक वीपीएन कैसे अपनी सेवा मुफ्त में दे पाएगा, वह किसी न किसी माध्यम से उसकी कीमत जरूर वसूलेगा। जैसा कि कहा जाता है, यदि आप किसी उत्पाद की कीमत नहीं चुकाते हैं तो आप खुद एक उत्पाद बन जाते हैं, कहने का मतलब यही है कि यदि आप प्रत्यक्ष रूप से उत्पाद की कीमत नहीं चुकाते हैं तो आपको अप्रत्यक्ष रूप से उसकी कीमत चुकानी पड़ती है…

इसके अलावा, कुछ सम्मानित मुफ्त वीपीएन सेवाएं भी उपलब्ध हैं, जिनमें साइबर घोस्टका फ्री ऑफर सबसे अधिक उल्लेखनीय है, जो सीमित होने के बावजूद, कई आकस्मिक उपयोगकर्ताओं के लिए काफी है, और पारदर्शी तरीके से इसके प्रीमियम ऑफर का वित्तपोषण किया जाता है। वीपीएन गेट एक और विकल्प है जिसे स्वयंसेवकों द्वारा चलाया जाता है।

लेकिन, आपको यह पता होना चाहिए कि कोई भी मुफ्त वीपीएन एक अच्छी कमर्शियल सेवा के बराबर बेहतरीन प्रदर्शन या गोपनीयता लाभ नहीं देगा।

यह देखते हुए कि वीपीएन का मासिक खर्च आम तौर पर लगभग एक बीअर की कीमत के बराबर होता है, मैं आपको सभी सुविधाओं से सम्पन्न सेवा का उपयोग करने का सुझाव देता हूँ।

 

क्या एक वीपीएन मुझे गुमनाम बनाता है?

vpns_for_beginnersनहीं। वीपीएन आपको गुमनाम नहीं बनाता है क्योंकि वीपीएन प्रदाता हमेशा* मालूम कर सकता है कि आप कौन हैं, और देख सकता है कि आप इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं। लेकिन, गोपनीयता-उन्मुख वीपीएन सेवाएं अपने ग्राहकों की गोपनीयता की रक्षा करने के लिए बहुत अच्छे-अच्छे उपाय करती हैं, इसीलिए हम कहते हैं कि वीपीएन गोपनीयता (गुमनामी के बजाय) प्रदान करता है।

खोखले वादें

सबसे पहले इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि जबकि कई प्रदाता, उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता की रक्षा करने के वादे तो करते हैं लेकिन यदि वे लॉग रखते हैं तो इन वादों का कोई मतलब ही नहीं रह जाता है जो सिर्फ कागज़ पर रह जाते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे क्या कहते हैं, किसी भी वीपीएन प्रदाता स्टाफ को एक ग्राहक की रक्षा करने की वजह से जेल नहीं जाना पड़ेगा (या उनका कारोबार बर्बाद नहीं होगा)। यदि कोई भी वीपीएन प्रदाता अपने उपयोगकर्ताओं का डेटा रखता है तो उसे कभी-न-कभी सौंपने के लिए मजबूर किया ही जा सकता है।

भरोसा

यदि आप गोपनीयता के लिए वीपीएन का उपयोग करना चाहते हैं तो सिर्फ एक “कोई लॉग नहीं” प्रदाता उपयोगी होगा। दुर्भाग्य से, जब एक प्रदाता दावा करता है कि वह कोई लॉग नहीं रखता है, तो हमारे पास उनकी बात पर भरोसा करने के अलावा कोई रास्ता नहीं होता है (इसीलिए इस दुनिया के एडवर्ड स्नोडेन, टोर का उपयोग करना पसंद करते हैं)।

इसलिए एक वीपीएन प्रदाता का चयन करना एक भरोसे की बात है, तो आप कैसे पता लगाते हैं कि किसी प्रदाता पर भरोसा किया जा सकता है या नहीं? वैसे… गोपनीयता उन्मुख वीपीएन प्रदाताओं ने गोपनीयता का वादा करने के लिए अपना बिजनेस मॉडल तैयार किया है, और यदि इसके बारे में पता चलता है कि वे इसे पूरा करने में फेल हो गए हैं (उदाहरण के लिए, लॉग रखकर जबकि उन्होंने लॉग न रखने का वादा किया था, और उसके बाद अधिकारियों को उस लॉग को सौंपने के लिए मजबूर हो गए हों) तो उनकी सेवा किसी काम की नहीं है (और पीड़ित व्यक्ति द्वारा उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है)।

रियल-टाइम ट्रैकिंग

यह समझना चाहिए कि जब एक प्रदाता कोई लॉग नहीं रखता है तब भी वह रियल-टाइम में उपयोगकर्ताओं की इंटरनेट गतिविधि पर नजर रख सकता है और रखने में सक्षम होगा (समस्या निवारण इत्यादि के लिए ऐसा करना जरूरी होता है, और वह भी कोई लॉग न रखने पर भी)।

कोई लॉग न रखने वाले अधिकांश प्रदाता यह भी वादा करते हैं कि वे रियल-टाइम में उपयोगकर्ताओं की गतिविधि पर नजर नहीं रखेंगे (जब तक तकनीकी कारणों से ऐसा करना जरूरी न हो), लेकिन अधिकांश देश कानूनी तौर पर मांग कर सकते हैं कि एक प्रदाता एक व्यक्ति का लॉग रखना शुरू करे (और कंपनी को इसके बारे में अपने ग्राहक को अलर्ट करने से रोकने के लिए चुप रहने का आदेश दे)।

हालाँकि, यह किसी ख़ास व्यक्ति को लक्ष्य करने के लिए की जाने वाली मांग या अनुरोध है (अधिकांश प्रदाता ख़ुशी-ख़ुशी सहयोग करेंगे जब उदाहरण के लिए, बाल यौन अपराधियों को पकड़ने की बात हो), इसलिए अधिकारियों द्वारा पहले से पहचाने गए ख़ास लोगों के मामले में ऐसा करना पड़ता है।

शेयर्ड आईपी

कोई लॉग न रखने के अलावा, अपने उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता की रक्षा करने की परवाह करने वाली कंपनियां, शेयर्ड आईपी का भी उपयोग करती हैं। इसका मतलब है कि कई उपयोगकर्ताओं को एक ही आईपी एड्रेस दिया जाता है, इसलिए एक ख़ास व्यक्ति के पहचाने गए इंटरनेट व्यवहार का मिलान करना बहुत कठिन होता है, यदि एक प्रदाता ऐसा करना चाहे (या करने के लिए मजबूर हो) तब भी। उपरोक्त गोपनीयता समस्या का समाधान करने में काफी समय लगता है।

असल में ‘कोई लॉग नहीं’ का क्या मतलब है? उपयोग लॉग बनाम कनेक्शन लॉग

जब कई प्रदाता कोई लॉग न रखने का दावा करते हैं तब असल में उनका मतलब यही होता है कि वे कोई ‘उपयोग लॉग’ नहीं रखते हैं, लेकिन वे ‘कनेक्शन लॉग’ रखते हैं:

  • उपयोग लॉग – आप इंटरनेट पर जो करते हैं उसका विवरण, जैसे आप किन-किन वेबसाइटों में जाते हैं, इत्यादि। ये सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं (और काफी हद तक लॉग को नष्ट करते हैं)।
  • कनेक्शन लॉग – कई ‘कोई लॉग नहीं’ प्रदाता अपने उपयोगकर्ताओं के कनेक्शनों के बारे में मेटाडेटा रखते हैं, लेकिन कोई उपयोग लॉग नहीं रखते हैं। असल में क्या-क्या लॉग रखा जाता है, यह अलग-अलग प्रदाता के मामले में अलग-अलग होता है, लेकिन आम तौर पर इसमें शामिल होता है – आपने कब कनेक्ट किया था, कितनी देर के लिए, कब-कब इत्यादि। प्रदाता आम तौर पर तकनीकी समस्याओं से निपटने और दुरुपयोग की दृष्टि से इसे आवश्यक बताते हुए इसे उचित बताते हैं। आम तौर पर हमें इस तरह का लॉग रखने से कोई परेशानी नहीं है लेकिन असल में पागलपन करने वालों को यह पता होना चाहिए कि कम से कम सैद्धांतिक रूप से ऐसे लॉग का उपयोग, एक ‘एंड टू एंड टाइमिंग अटैक’ के माध्यम से ज्ञात इंटरनेट व्यवहार वाले व्यक्ति की पहचान करने के लिए किया जा सकता है।

कुछ प्रदाता दावा करते हैं कि वे किसी तरह कोई लॉग नहीं रखते हैं (जिन्हें “कोई लॉग नहीं” प्रदाता कहा जाता है, और इन्हें ही आम तौर पर गोपनीयता की रक्षा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है)। इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि कुछ आलोचक तर्क देते हैं कि लॉग रखे बिना एक वीपीएन सेवा को चलाना असंभव है, और जो लोग ऐसा दावा करते हैं वे कपटी होते हैं।

हालाँकि, जैसा कि ऊपर बताया जा चुका है, एक वीपीएन प्रदाता पर ही हर तरह से भरोसा करना पड़ता है, और यदि एक प्रदाता दावा करता है कि वह बिल्कुल भी कोई लॉग नहीं रखता है तो हमें इस तरह इस वीपीएन सेवा को चलाने की उसकी क्षमता पर भरोसा करना पड़ता है…

अभी हमारे शीर्ष 5 तेज और विश्वसनीय वीपीएन देखें >

अनिवार्य डेटा प्रतिधारण

एक गोपनीयता-अनुकूल वीपीएन प्रदाता का चयन करते समय इस बारे में पता होना चाहिए कि वह कहाँ स्थित है (अर्थात् वह किस देश के क़ानून के तहत काम करता है)। कई देशों में (कई यूरोपीय देशों सहित) कम्युनिकेशन कंपनियों को कुछ समय तक लॉग रखना पड़ता है, जबकि वीपीएन पर लागू होने वाले इन नियमों या कानूनों में कुछ हद तक अंतर हो सकता है (यूरोप में नीदरलैंड, लक्ज़मबर्ग, रोमानिया और स्वीडन एक वीपीएन सेवा के स्थित होने के लिए लोकप्रिय स्थान हैं क्योंकि इन देशों में वीपीएन प्रदाताओं को लॉग रखना नहीं पड़ता है)।

यदि एक वीपीएन प्रदाता एक ऐसे देश में स्थित है जहाँ लॉग रखना जरूरी है तो वह ऐसा ही करेगा, चाहे वह कुछ भी कहे।

गुमनाम तरीके से वीपीएन के लिए भुगतान करना

अधिक गोपनीयता प्रेमी कंपनियां आपको अपनी सेवाओं के लिए गुमनाम तरीके से भुगतान करने की अनुमति देती हैं। सबसे आम तरीका है – बिटकॉयन** का उपयोग करके; लेकिन प्राइवेट इंटरनेट एक्सेस जैसी कंपनियां गुमनाम तरीके से ख़रीदे गए स्टोर कार्ड स्वीकार करेंगी, और मलवाड तो डाक द्वारा भेजी गई नकद भी स्वीकार कर लेगी!

इससे गोपनीयता में थोड़ी और वृद्धि हो जाती है क्योंकि वीपीएन कंपनी को आपका असली नाम, पता, या बैंकिंग विवरण के बारे में पता नहीं चलता है। लेकिन, इसे अभी भी आपका असली आईपी एड्रेस* मालूम होगा।

गुमनाम तरीके से भुगतान करने के प्रत्यक्ष गोपनीयता लाभ के अलावा, गुमनाम तरीके से भुगतान स्वीकार किए जाने से इस बात का संकेत मिलता है कि एक वीपीएन, गोपनीयता को गंभीरता से लेता है (इससे किसी गारंटी का पता तो नहीं चलता है, लेकिन गुमनाम तरीके से भुगतान स्वीकार न करना बुरा संकेत देता है!)

** बिटकॉयन द्वारा भुगतान किया जाना स्वाभाविक रूप से गुमनाम नहीं होता है लेकिन सही चरणों का उपयोग करने पर काफी हद तक गुमनामी प्राप्त की जा सकती है। विस्तार से जानने के लिए कृपया गुमनाम तरीके से वीपीएन के लिए भुगतान करने के लिए बिटकॉयन खरीदने से संबंधित मेरी गाइड देखें।

नियम* में एक अपवाद

इस नियम में एक अपवाद है कि वीपीएन प्रदाताओं को हमेशा मालूम होता है कि आप कौन हैं यदि आप “टोर के माध्यम से वीपीएन” का उपयोग करते हैं। इसका मतलब है कि आप टोर गुमनामी नेटवर्क, के माध्यम से वीपीएन सेवा से कनेक्ट करते हैं, ताकि आपका वीपीएन प्रदाता आपका असली आईपी एड्रेस न देख सके।

यदि आप टोर का उपयोग करके साइन अप भी करते हैं, और एक गुमनाम भुगतान तरीके का उपयोग करते हैं तो आप इस सेटअप की मदद से सही मायने में बहुत अधिक गुमनामी प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन, यह भी जान लें कि ऐसा करने से वीपीएन और टोर दोनों का स्पीड हिट संयुक्त हो जाता है जिससे इंटरनेट कनेक्शन बहुत धीमा हो जाता है।

लिखने के समय, सिर्फ AirVPN और BolehVPN टोर के माध्यम से वीपीएन’ को सपोर्ट करते हैं (जहाँ तक मुझे मालूम है)। विस्तार से जानने के लिए कृपया वीपीएन और टोर का एक साथ उपयोग करना पर आधारित मेरा लेख देखें।

तो… क्या मैं “सुरक्षित” हूँ यदि मैं वीपीएन का उपयोग करता हूँ?

एक अच्छी ‘कोई लॉग नहीं’ वीपीएन सेवा का उपयोग करने से ऊंचे दर्जे की गोपनीयता मिलती है। यह चोरी-छिपे होने वाली सरकारी निगरानी से बचाएगी, आपके आईएसपी को यह जानने से रोकेगी कि आप इंटरनेट पर क्या करते हैं, किसी चीज की पाइरेसी करते समय कॉपीराइट मालिकों द्वारा आपको ट्रैक किए जाने से रोकेगी, और छोटी-मोटी आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने पर आपकी थोड़ी-बहुत रक्षा भी करेगी।

लेकिन, यह उस समय आपकी रक्षा नहीं करेगी यदि पुलिस, आपकी सरकार, या एनएसए की दिलचस्पी ख़ास तौर पर आप में हो, और यह छानबीन करने में अपना समय और संसाधन खर्च करने की इच्छुक हो कि आप इंटरनेट पर क्या करते हैं।

इसलिए जिन पत्रकारों, मुखबिरों, और अन्य लोगों को बहुत अधिक गुमनामी की जरूरत पड़ती है उन्हें इसके बजाय टोर का उपयोग करना चाहिए (यद्यपि टोर के माध्यम से वीपीएन का उपयोग करने से कुछ ठोस लाभ होते हैं)।

 

एक वीपीएन की मदद से ऑनलाइन पर सुरक्षित रहें

आपको सबसे तेज और सबसे सुरक्षित सेवाओं के बारे में बताने के लिए हम तरह-तरह के वीपीएन की समीक्षा करते हैं

आज ही एक वीपीएन की मदद से इंटरनेट को अनलॉक करें

मैं कितना सुरक्षित हूँ?

एनक्रिप्शन

vpns_for_beginners
वीपीएन, एनक्रिप्शन का उपयोग करके आपके डेटा की रक्षा करता है। मैंने वीपीएन एनक्रिप्शन और उसका वर्णन करने के लिए उपयोग किए जाने वाले विभिन्न शब्दों के बारे में दो लेख लिखें हैं। वे थोड़े तकनीकी हैं लेकिन यदि आप इनके बारे में जानना चाहते हैं तो कृपया निम्नलिखित को पढ़ें:

हालाँकि, टीएल:डीआर वर्शन का उद्देश्य जहाँ तक हो सके ओपन वीपीएन (या शायद आईकेईवी2) का उपयोग करना है। एल2टीपी/आईपीसेक ठीक है, लेकिन पीपीटीपी से हर हाल में परहेज करना चाहिए (मेरी नजर में यहाँ तक कि एक विकल्प के रूप में भी ग्राहकों को पीपीटीपी प्रदान करने वाले प्रदाता गैर-जिम्मेदार हैं)।

एक रेफरेंस पॉइंट के रूप में, ओपन वीपीएन प्रोटोकॉल के लिए न्यूनतम डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स हैं:

हैंडशेक: आरएसए-2048
हैश ऑथेंटिकेशन: एसएचए-1
सायफर: ब्लोफ़िश-128

यह अधिकांश उपयोगकर्ताओं के लिए पर्याप्त से अधिक है, लेकिन यदि आपको एनएसए की चिंता है तो निकट भविष्य में किसी तरह के हमले से बचाने वाले एक “सुरक्षित” वीपीएन कनेक्शन के लिए मेरा न्यूनतम सुझाव निम्नलिखित है:

वीपीएन प्रोटोकॉल: सक्षम परफेक्ट फॉरवर्ड सेक्रेसी के साथ ओपन वीपीएन
हैंडशेक: आरएसए-2048
हैश ऑथेंटिकेशन: एसएचए256
सायफर: एईएस-256

आईपी लीक और किल स्विच

यदि आपका वीपीएन सही ढंग से काम कर रहा है तो आप जिस-जिस वेबसाइट में जाते हैं, उसे हर उस वेबसाइट से आपके आईपी एड्रेस को पूरी तरह छिपाना चाहिए। दुर्भाग्य से, तरह-तरह के कारणों से, हमेशा ऐसा नहीं हो पाता है। यदि एक वेबसाइट एक वीपीएन का उपयोग करने के बावजूद किसी तरह आपके आईपी एड्रेस का पता लगा लेता है तो उसे आईपी लीक कहा जाता है।

यह पता लगाने के लिए कि कहीं आप आईपी लीक से पीड़ित तो नहीं हैं ipleak.net में जाएं। यदि आप एक वीपीएन से कनेक्टेड हैं और इस पेज में आप कहीं भी अपना असली आईपी एड्रेस (या यहाँ तक कि सिर्फ अपने आईएसपी का नाम भी) देख सकते हैं तो इसका मतलब है, आईपी लीक हो रहा है। ध्यान दें कि ipleak.net आईपीवी6 लीक का पता नहीं लगाता है, इसलिए इसका पता लगाने के लिए आपको test-ipv6.com में जाना चाहिए।

यदि आपको किसी लीक का पता चलता है तो ऐसा क्यों हो रहा है और इसे कैसे ठीक किया जा सकता है, इसके बारे में जानने के लिए कृपया आईपी लीक की एक सम्पूर्ण गाइड देखें।

इससे संबंधित एक समस्या है – वीपीएन ड्रॉपआउट, क्योंकि प्रत्येक वीपीएन कनेक्शन कभी-न-कभी फेल हो ही जाएगा। एक अच्छे वीपीएन प्रदाता के मामले में ऐसा बहुत ज्यादा नहीं होना चाहिए, लेकिन अच्छे से अच्छे वीपीएन के साथ भी कभी-कभी ऐसा होता ही है। यदि आपका कंप्यूटर, एक ड्रॉपआउट के बाद इंटरनेट से कनेक्टेड रहता है तो आपके असली आईपी का खुलासा हो जाएगा।

इसका समाधान है – एक “वीपीएन किल स्विच” जो या तो आपके इंटरनेट कनेक्शन की निगरानी करता है और एक वीपीएन ड्रॉपआउट का पता लगने पर उसे बंद कर देता है, या आपके वीपीएन कनेक्शन के बाहर आपके कंप्यूटर द्वारा छोड़े जाने वाले इंटरनेट ट्रैफिक को रोकने के लिए फ़ायरवॉल नियमों का उपयोग करता है।

कई वीपीएन प्रदाताओं के वीपीएन सॉफ्टवेयर में एक किल स्विच होता है लेकिन तीसरी पार्टी वाले विकल्प भी उपलब्ध हैं। वैकल्पिक रूप से, यदि आप खुद को बहादूर मानते हैं तो आप अपने दम पर फ़ायरवॉल नियमों का उपयोग करके इसे कॉन्फ़िगर कर सकते हैं। किल स्विच के बारे में और अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें जिसमें एंड्रॉयड के लिए ओपन वीपीएन को एक किल स्विच के रूप में कॉन्फ़िगर करने का तरीका भी बताया गया है।

 

क्या मैं वीपीएन का उपयोग करके सुरक्षित ढंग से टोरेंट कर सकता हूँ?

vpns_for_beginners

हाँ, जब तक आप एक ऐसे प्रदाता का उपयोग करते हैं जो इसकी अनुमति देता है (सब नहीं देते हैं, इसलिए जांच लें)। वीपीएन की मदद से आपके डेटा को एनक्रिप्ट कर दिया जाता है ताकि आपका आईएसपी न देख सके कि आप ऑनलाइन क्या कर रहे हैं, और आपके वीपीएन प्रदाता द्वारा आपके आईपी की रक्षा की जाती है।

बिटटोरेंट के माध्यम से पी2पी डाउनलोडिंग करते समय (या पॉपकॉर्न टाइम का उपयोग करके स्ट्रीमिंग करते समय) उसी फाइल को डाउनलोड करने वाले बाकी सभी लोग उस फाइल को डाउनलोड करने वाले हर किसी का आईपी एड्रेस आसानी से देख सकते हैं (इसलिए इसे पी2पी और फाइलशेयरिंग कहा जाता है)। एक वीपीएन का उपयोग करते समय, उस फाइल को ट्रैक करने वाला कोई भी व्यक्ति सिर्फ आपके वीपीएन सर्वर का आईपी एड्रेस देख पाएगा, न कि आपका असली आईपी एड्रेस।

वीपीएन कंपनियों पर, हर समय उपयोगकर्ताओं की गतिविधियों के कारण डीएमसीए-स्टाइल कॉपीराइट उल्लंघन नोटिसों की बारिश होती रहती है। कुछ वीपीएन कंपनियां, आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए उल्लंघनकारी ग्राहकों के नाम सौंपने तक, कॉपीराइट धारकों के साथ सहयोग करना पसंद करती हैं, जबकि अन्य कंपनियां, ग्राहकों को चेतावनी देकर और चेतावनी के बाद भी बार-बार ऐसा करने पर उन्हें डिस्कनेक्ट करके कॉपीराइट धारकों को खुश करने की कोशिश करती हैं।

लेकिन, कुछ प्रदाता, ग्राहकों को पी2पी डाउनलोड करने की अनुमति देकर खुश होते हैं, और उनकी पहचान की रक्षा करके अच्छा पैसा कमाते हैं (कोई लॉग न रखना यहाँ हमेशा एक अच्छा उपाय साबित होता है)। यदि आपका वीपीएन प्रदाता पी2पी की अनुमति देता है तो आप सुरक्षित ढंग से डाउनलोड कर सकते हैं।

लेकिन, डाउनलोडरों को किसी और से अधिक सावधान रहते हुए एक वीपीएन किल स्विच का उपयोग करना चाहिए क्योंकि वे कभी-कभी डाउनलोड करने के लिए टोरेंट को घंटों तक अकेला छोड़ देते हैं…

अभी हमारे शीर्ष 5 तेज और विश्वसनीय वीपीएन देखें >

स्मार्ट डीएनएस कब बेहतर होता है

vpns_for_beginners

कई लोग वीपीएन का उपयोग मुख्य रूप से, अंतर्राष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं के लिए अवरुद्ध (या कुछ देशों में उपयोगकर्ताओं को बेहतर कैटलॉग प्रदान करने वाली) टीवी स्ट्रीमिंग सेवाओं को देखने के लिए भू-प्रतिबंधों से बचने के लिए करते हैं।

यदि आप सिर्फ इसी वजह से वीपीएन का उपयोग करना चाहते हैं, और आपको वीपीएन द्वारा प्रदान किए जाने वाले गोपनीयता और सुरक्षा लाभों में कोई दिलचस्पी नहीं है तो आपके लिए इसके बजाय एक स्मार्ट डीएनएस सेवा का उपयोग करना बेहतर साबित हो सकता है।

स्मार्ट डीएनएस बहुत सरल टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है और आपके कनेक्शन को एनक्रिप्ट नहीं करता है, जिससे यह वीपीएन से तेज होता है (इसलिए बहुत कम बफरिंग की समस्या होती है, लेकिन दूरी एक समस्या बनी रहती है)। इसे कई इंटरनेट डिवाइसों पर भी कॉन्फ़िगर किया जा सकता है जो एक वीपीएन क्लाइंट पर नहीं चल सकते हैं, जैसे स्मार्ट टीवी, मीडिया स्ट्रीमिंग डिवाइस, और गेम कंसोल (क्योंकि प्रत्येक इंटरनेट क्षम्य डिवाइस में डीएनएस सेटिंग होती है जिसे बदला जा सकता है)।

स्मार्ट डीएनएस सेवाएं आम तौर पर वीपीएन सेवाओं की तुलना में अधिक सस्ती भी होती हैं। और अधिक जानकारी के लिए कृपया हमारी सिस्टर-साइट SmartDNS.comमें जाएं।

 

क्या वीपीएन, मोबाइल डिवाइसों पर काम करता है?

vpns_for_beginners

हाँ, लेकिन…

वीपीएन, आईओएस और एंड्रॉयड प्लेटफॉर्मों पर अच्छी तरह सपोर्ट करता है, और डेस्कटॉप कंप्यूटरों की तरह आपके डेटा को एनक्रिप्ट करता है और सभी इंटरनेट कनेक्शनों के लिए आपके आईपी एड्रेस को छिपा देता है। इसलिए, पी2पी डाउनलोडिंग के लिए अपने वेबसाइट ब्राउजर के माध्यम से वेबसाइटों को एक्सेस करते समय, एक वीपीएन का उपयोग करने पर आप पूरी तरह सुरक्षित होते हैं।

लेकिन… मोबाइल ऐप्स में आपकी पहचान का पता लगाने के लिए आपके आईपी एड्रेस के अलावा और भी कई तरीके हैं, और उन्हें पता होता है कि आप ऑनलाइन पर क्या कर रहे हैं। इन ऐप्स को अक्सर जीपीएस डेटा, संपर्क सूची, गूगल प्ले/ऐपल स्टोर आईडी, इत्यादि का एक्सेस प्राप्त रहता है। कई ऐप्स इसे और अन्य सभी प्रकार के पर्सनल डेटा को सीधे अपनी पैरेंट कंपनियों के पास भेजती हैं (इस तरह ये आपके वीपीएन से बचकर निकल जाते हैं)।

इसके माध्यम से, डेवलपर अपने उत्पादों को भुनाने के लिए कई ऐप्स में विज्ञापन का उपयोग करते हैं जो खुद उनके लिए भी गोपनीयता की दृष्टि से बुरे सपने की तरह है!

इसलिए, एक मोबाइल डिवाइस पर एक वीपीएन का पूरा फायदा उठाने के लिए, समर्पित ऐप्स के बजाय अपने ब्राउजर (ख़ास तौर पर ओपन सोर्स और गोपनीयता-अनुकूल फायरफॉक्स) का उपयोग करके वेब पेज के माध्यम से वेबसाइटों और सेवाओं को एक्सेस करना चाहिए।

लेकिन, कृपया हमेशा याद रखें कि स्मार्टफोन (सिर्फ वाईफाई वाले टैब्लेटों से भी अधिक) स्वाभाविक रूप से असुरक्षित होते हैं, और उन्हें सुरक्षित रखने के लिए आप असल में ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं।

 

वीपीएन क्या नहीं करता है

वीपीएन का उपयोग करने से आपकी गोपनीयता और सुरक्षा में बेशक सुधार होता है, लेकिन यह भी समझना जरूरी है कि यह किसमें आपकी मदद नहीं करेगा:

  • vpns_for_beginnersवीपीएन, गुमनामी की सुविधा नहीं देता है – जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है। यदि एनएसए आपके पीछे है तो वीपीएन कोई मदद नहीं करेगा, और जो वीपीएन प्रदाता कहता है कि वह आपको “गुमनाम” रखेगा (जैसा कि कई वीपीएन करते भी हैं) वह वीपीएन हमारी नजर में अत्यंत गैर-जिम्मेदार हैं।
  • वीपीएन, वेबसाइटों द्वारा की जाने वाली ट्रैकिंग की रोकथाम नहीं करता है – वीपीएन की मदद से आपके आईपी एड्रेस को छिपाने में थोड़ी-बहुत मदद मिलती है, लेकिन वेबसाइटों द्वारा और मार्केटिंग और एनालिटिक्स कंपनियों द्वारा की जाने वाली अधिकांश ट्रैकिंग, कुकीज और वर्स (ब्राउजर फिंगरप्रिंटिंग सहित) जैसी ट्रैकिंग टेक्नोलॉजियों का उपयोग करके की जाती है, जिसमें वीपीएन आपकी मदद नहीं करेगा। इस तरह की ट्रैकिंग से बचने का सबसे अच्छा तरीका है – तरह-तरह के ब्राउजर सहित) जैसी ट्रैकिंग टेक्नोलॉजियों का उपयोग करके की जाती है, जिसमें वीपीएन आपकी मदद नहीं करेगा। इस तरह की ट्रैकिंग से बचने का सबसे अच्छा तरीका है – तरह-तरह के ब्राउजर ऐड-ऑन और ट्वीक्स का उपयोग करना।

‘शुरू करने वालों के लिए वीपीएन’ गाइड: निष्कर्ष

वीपीएन एक बेहद बहुमुखी साधन है, और हर महीने कुछ रुपये खर्च करके इनमें से किसी एक वीपीएन का उपयोग करने से आपके इंटरनेट अनुभव में काफी वृद्धि होगी, आपको हैक किए जाने की संभावना कम हो जाएगी, और सरकार को वह सब कुछ देखने से रोकने में मदद मिलेगी जो आप ऑनलाइन पर करते हैं (इसी आखिरी कारण की वजह से ही मैं अपनी डिवाइसों पर पूरे मन से वीपीएन का उपयोग करता हूँ)।

मुझे उम्मीद है कि इस गाइड की मदद से आप अब सोच-समझकर वीपीएन का चयन कर सकेंगे कि कौन सी वीपीएन सेवा आपके लिए सही है। और अधिक जानकारी के लिए, 5 सबसे अच्छी वीपीएन सेवाएं पेज पर एक नजर डालें। यदि यहाँ किसी शब्द के बारे में आप अभी भी उलझन में हैं तो आपकी मदद के लिए हमने एक शब्दावलीभी तैयार की है।

Exclusive Offer
SAVE 77% TODAY
LIMITED TIME OFFER
Get NordVPN for only
$2.75/month